भड़काऊ भाषण मामले में दरगाह का खादिम गौहर चिश्ती गिरफ्तार: कन्हैया के हत्यारों गौस-रियाज से संपर्क में था, पुलिस ने हैदराबाद से पकड़ा

भड़काऊ भाषण मामले में दरगाह का खादिम गौहर चिश्ती गिरफ्तार: कन्हैया के हत्यारों गौस-रियाज से संपर्क में था, पुलिस ने हैदराबाद से पकड़ा

अजमेर दरगाह के बाहर भीड़ में भड़काऊ भाषण के मामले में फरार आरोपी गौहर चिश्ती को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उसकी गिरफ्तारी हैदराबाद से हुई है। आरोपी ने मौन जुलूस के दौरान हिंसा भड़काने वाले नारे दिए थे।

वीडियो के आधार पर पुलिस ने चार आरोपियों काे पहले ही गिरफ्तार कर लिया था। बताया जा रहा है गौहर की उदयुपर में हुए कन्हैयालाल के तालिबानी हत्याकांड मामले में भूमिका संदिग्ध है। इस एंगल पर भी पुलिस जांच करेगी। पूरे मामले पर अजमेर एसपी चूनाराम जाट शुक्रवार को कई खुलासे कर सकते हैं।

शेल्टर देने वाला भी गिरफ्तार
सूत्रों के मुताबिक, मामले में पुलिस ने फरार गौहर चिश्ती को हैदराबाद में शरण देने वाले मोहम्मद अहसानुल्लाह को भी पकड़ा है। गौहर अहसानुल्लाह के घर में छुपा था। उसी के मोबाइल से राजस्थान की अलग-अलग जगह पर संपर्क कर रहा था।

इसके साथ ही राजस्थान से हैदराबाद एयरपोर्ट पर पहुंचने पर भी गौहर चिश्ती को मोहम्मद अहसानुल्लाह ने ही पिक किया था। पुलिस अहसानुल्लाह से भी पूछताछ करेगी।

धार्मिक स्थल से भीड़ काे उकसाने का मामला दर्ज
कॉन्स्टेबल जयनारायण जाट ने दी रिपोर्ट में बताया कि 17 जून को दोपहर 3 बजे उसकी ड्यूटी निजाम गेट पर थी। इसी दौरान कुछ खादिमों द्वारा गेट पर पूर्व से निर्धारित मौन जुलूस की शर्तों का उल्लंघन करते हुए वहां भाषण दिया गया। इसके लिए रिक्शे पर लाउड स्पीकर लगाया।

कॉन्स्टेबल ने रिपोर्ट में बताया कि इस दौरान 2500-3000 लोगों की भीड़ दरगाह के सामने थी, जबकि खादिम गौहर चिश्ती को पूर्व में समझाया भी गया था, लेकिन बावजूद इसके भड़काऊ भाषण के साथ नारेबाजी की गई। ऐसे में धार्मिक स्थल से हिंसा के लिए भीड़ को उकसाने और हत्या का आह्वान करने पर मामला दर्ज किया गया था।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक गौस मोहम्मद और रियाज अत्तारी दोनों गौहर चिश्ती के संपर्क में थे।

उदयपुर हत्याकांड का अजमेर कनेक्शन
उदयपुर में हुए कन्हैयालाल के हत्याकांड के तार भी अजमेर से जुडे़ हैं। सूत्रों की मानें तो दरगाह के निजाम गेट की सीढ़ियों पर भड़काऊ नारे लगाने वाले गौहर चिश्ती की जान पहचान कन्हैया के हत्यारों रियाज और गौस से थी। तीनों के बीच बातचीत होती थी। गौहर दोनों से मिलने उदयपुर गया था। इसके 10 दिन बाद ही कन्हैयालाल की निर्मम हत्या कर दी गई।

सूत्रों की मानें तो दोनों हत्यारे राजसमंद के रास्ते अजमेर आने वाले थे। दोनों की मुलाकात गौहर चिश्ती से होनी थी, लेकिन पुलिस ने पहले ही दबोच लिया। हत्यारों के अजमेर कनेक्शन को लेकर अजमेर पुलिस के साथ ही सुरक्षा एजेंसियां जांच में जुटी हैं।

गिरफ्तार किए गए चारों आरोपी। इन्हें हाई सिक्योरिटी जेल में रखा गया है।

चार आरोपी किए गिरफ्तार
पुलिस ने वीडियो के आधार पर चार आरोपी ताजिम सिद्दिकी (31), फखर जमाली (42), रियाज हसन दल (47), मोईन खान (48) को भी गिरफ्तार किया है। चारों आरोपी फिलहाल हाई सिक्योरिटी जेल में बंद हैं।